English Website हिन्दी वेबसाइट
एनजीएमए मुंबई  |  एनजीएमए बंगलुरू

Friday, April 25, 2014


हमारा परिचय  |  इतिहास  |  शोकेस  |  प्रदर्शनी  |  संग्रह  |  प्रकाशन  |  देखने की योजना  |  हमसे संपर्क करें

आप यहां हैं:  होम  -  शोकेस  -  अमृता शेर-गिल
शोकेस - अमृता शेर-गिल
सार्वजनिक विषयों पर अमृता शेर-गिल की अधिकांश कृतियों को एनजीएमए में रखा गया है, जहां इस तेजस्वी कलाकार के 100 से अधिक चित्र हैं। अमृता के पिता धनवान, जागीरदार सिख थे और उनकी माता हंगरी की थी। अमृता का जीवन यूरोप और भारत दोनों देशों में बीता। अमृता सुखमय और सभ्य प्रेरणादायक महिला होने के साथ-साथ असाधारण प्रतिभा की चित्रकार भी थीं।

1929 में अमृता शेर-गिल ने पेरिस में इकोल डेस ब्यूक्स आर्टस से जुड़ गईं। उनकी चित्रकारी की कुशलता को स्वीकार किया गया और उसकी सराहना की गई। उन्हें पेरिस में कलाकारों का रूढिमुक्त जीवन पसंद आया। अब अमृता की चित्र शैली में यूरोपीय अभिव्यक्ति की झलक नजर आने लगी थी, जिसमें यूरोपीय यथार्थवाद और चित्रकार के रचनात्मक प्रयोग का समावेश था। 1930 के दशक की शुरूआत में बनाए गए अनेक चित्र यूरोपीय शैली के है और इनमें अनेक अपने ही चित्र सम्मिलित हैं पेरिस में जीवन को चित्रित करने वाले कई चित्र हैं जिनमें नग्न अध्ययन, निर्जीव वस्तुओं के अध्ययनों के साथ-साथ चित्रों तथा साथी विद्यार्थियों के चित्र शामिल हैं। इनमें से निजी चित्र अधिक हैं इन चित्रों में कलाकार के विभिन्न मनोभावों की झलक की प्रस्तुति है- गंभीर चिंतनशील और प्रसन्नता साथ ही इनमें उनके व्यक्तित्व में आत्मसात अस्व 2 ताघा का पुट भी झलकता है।

1930 के दशक के मध्य तक उनकी शैली में मौलिक परिवर्तन आया। तब उन्हें भारत की याद सताने लगी और 1934 में उनका परिवार भारत लौट आया। तब वह भारत को एक कलाकार के नजरिए से देखने लगी। इस युवा चित्रकार पर रंगों, संरचना, गतिशीलता और लोगों की सांसारिकता का बहुत असर पड़ा। भारत में उन्होंने लघुचित्रों की भाषा को अपनाया।

अलग-अलग सभ्यता और संस्कृतियों के माता-पिता, पेरिस में उनको कलाविद्यालय से सम्बद्धता, उनकी अलग-अलग लैगिंक विशिष्टता, जिसने उन्हें देशी और विदेशी दोनों पहचान दी- की उनके जीवन की जटिलताओं ने उन्हें लगातार अपनी चित्रभाषा को नई शैली में प्रस्तुत करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने अपनी आधुनिक संवेदनशीलता और पारम्परिक कला-ऐतिहासिक संसाधन के प्रति अपने उत्साहपूर्ण आकर्षण में सामंजस्य स्थापित करने का प्रयास किया।

अमृता शेर-गिल

सेल्फ पोर्ट्रेट (7), कैनवास पर ऑयल, 47.4X70.2 सेमी

अमृता शेर-गिल

यंग गर्ल्स, कैनवास पर ऑयल, 133X164 सेमी

अमृता शेर-गिल

न्यूड, कैनवास पर ऑयल, 79.1X112.5 सेमी

अमृता शेर-गिल

वोमन एट बाथ, कैनवास पर ऑयल, 70X92 सेमी

अमृता शेर-गिल

ब्राइड्स टॉयलेट, कैनवास पर ऑयल, 144.5X86 सेमी

अमृता शेर-गिल

ब्रह्मचारीज़, कैनवास पर ऑयल, 144X86.5 सेमी

अमृता शेर-गिल

वोमन ऑन चारपाई, कैनवास पर ऑयल, 85X72.4 सेमी

अमृता शेर-गिल

रेड वरांडा, कैनवास पर ऑयल, 71.6X144.2 सेमी

 

लघुचित्र

तंजाउर एवं मैसूर

यूरोपियन पर्यटक कलाकार

कम्पनी काल

कालीघाट पेंटिंग

सैद्धान्तिक यथार्थवाद

बंगाल स्कूल

अमृता शेर-गिल

यामिनी राय

गगनेंद्रनाथ टैगोर

रवीन्द्रनाथ टैगोर

शांतिनिकेतन

सामूहिक कलाकार

भावप्रधान कला

1960 का कला आंदोलन

1970 का कला आंदोलन

समकालीन

आधुनिक मूर्तिकला

मुद्रण करना

फोटोग्राफी